Bronze
rk55

Members »

rk55
  Bronze Member

A member of the Poetry.com vibrant community of poetry lovers.

  December 2021     6 months ago

Submitted Poems 35 total

Chale Aao Mohan - Rehan Katrawale

चले आओ मोहन के खुद को अकेला महसूस कर रहा हूं,
सांसें जरूर चल रही हैं मेरी पर बिन तुम्हारे लम्हा लम्हा मर रहा हूं

तुम्हारे नाम ने बचा रखा है माया से भरे इस संसार से मुझे,
कहीं भटक ना जाऊं मैं केशव इस बात से डर रहा...

by Rehan Katrawale

 1 View
added 1 year ago
Rating
Kaise Woh Shaks Tabaah Hua (Nazm) by Rehan Katrawale

सोचा क्या लिखूं उसके बारे में,
यही सोचते-सोचते मैनें पूरी दास्तां लिख दी।
मैनें लिखा कैसे मुझे मोहब्बत ने घेरा और घेर कर मार ढाला,
लिखा कैसे तक़्दीर लिखने वाले ने दूरियां हमारे दर्मियां लिख दी।।

मैं उसके लिए वो आफताब था जो कभी रोशन ना हो पाया,
...

by Rehan Katrawale

 2 Views
added 1 year ago
Rating
Dil Humara Dil Behlaane Ki Cheez Thi

ना इन महफ़िलों से ना इन मयकदों से वास्ता था मेरा,
दूर था इस मतलबपरस्त ज़माने से जब तुम मेरे करीब थी।

साथ भी थे और कोई रिश्ता भी नही था दर्मियां हमारे,
सोचता हूं के मोहब्बत अपनी भी कितनी अजीब थी।

था यकीन के आवाज़ देकर रोक लोगे तुम मुझे,
अफ्सोस...

by Rehan Katrawale

 2 Views
added 1 year ago
Rating
Ahad-E-Wafa Ka Farebi Andaaz

बयाँ करना चाहता है कुछ ये मायूस दिल मगर,
मसला ये है दिन के उजाले में कुछ कह नही पाता।

हैरत है के तुम्हारे बिना तो रहना सीख गया हूं मैं,
हैरान हूं के दर्द-ए-ला-दवा के बगैर मैं रह नही पाता।

उसकी बेवफाई को तो सहन कर सकता हूं मैं ग़ालिबन,
एक...

by Rehan Katrawale

 2 Views
added 2 years ago
Rating
Fasaana Ban Jaata Hai

हम तुम और दास्तां अपनी मोहब्बत की,
महफ़िल-ए-समा में कहता हूं तो फ़साना बन जाता है।

एक तरफ़ा आशिकों के मसले ही कुछ और हैं,
दिल के बात वो समझते नही और ना ये दिल कह पाता है।

वो जो मेरी आंखों में आंसू देख टूट जाया करता था कभी,
जाने क्यूं अब वो...

by Rehan Katrawale

 1 View
added 2 years ago
Rating

... and 30 more »

Favorite Poets 1 total

Voted Poems 0 total

There are currently no voted poems

Collection 0 total

The collection is currently empty

Latest Comments: 0 total

There are currently no comments

We need you!

Help us build the largest human-edited poems collection on the web!

July 2024

Poetry Contest

Join our monthly contest for an opportunity to win cash prizes and attain global acclaim for your talent.
16
days
23
hours
0
minutes

Special Program

Earn Rewards!

Unlock exciting rewards such as a free mug and free contest pass by commenting on fellow members' poems today!

Browse Poetry.com

Quiz

Are you a poetry master?

»
Roald Dahl wrote: "The animal I really dig, above all others is the..."
A horse
B pig
C dog
D cat